छत्तीसगढ़ में मनाया जा रहा है बोरे बासी दिवस, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल समेत आम लोग और अधिकारियों ने खाया बोरे बासी

रायपुर। छत्तीसगढ़ अपने खानपान के कारण और कला संस्कृति के कारण एक अलग ही पहचान रखता है। ऐसे ही छत्तीसगढ़ में बोरे बासी काफी ज्यादा प्रचलित है। आज छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री माननीय श्री भूपेश बघेल ने मजदूर दिवस के अवसर पर प्रदेश के सभी वासियों को बोरी बासी खाने की अपील की है। हर साल 1 मई को मजदूर दिवस मनाया जाता है मजदूर दिवस को खास बनाने के लिए छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पिछले साल से इसे बोरे बासी दिवस के रूप में मना रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने सभी को बोरे बासी दिवस में शामिल होने की अपील की

आज मुख्यमंत्री भूपेश बघेल समेत अन्य मंत्री, आईएएस और आईपीएस ऑफिसर सभी बोरे बासी खाएंगे।

मुख्यमंत्री ने आम नागरिकों की खुशी के साथ बोरे बासी त्यौहार में शामिल होने की अपील की है।

पीसीसी चीफ मोहन मरकाम ने अपने परिवार के साथ बोरे बासी खाया है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा पूरी दुनिया में 1 मई को मेहनत के उत्सव के रूप में मनाया जाता है।

हमारे छत्तीसगढ़ में मजदूर दिवस इसलिए मनाया जाता है क्योंकि हमारा प्रदेश किसानों, आदिवासियों और मजदूरों का प्रदेश है।

हमारे खेत, जंगल, खदान और कारखानों को हमने पसीने से स्विच कर खड़ा किया है यह हमारी ताकत है।

इन सभी जगहों पर अपना पसीना बहाने लोगों ने प्रदेश को अपने कंधों पर संभाल रखा है।

इनके श्रम का सम्मान करने और श्रम का उत्सव मनाने के लिए हमने 1 मई को बोरे बासी त्योहार के रूप में मनाने का निर्णय लिया है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल नेम बोरे बासी की बताई खासियत

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अपने संदेश में बोरे बासी की खासियत और इसको खाने के फायदे को भी बताया है।

उन्होंने कहा, छत्तीसगढ़ की संस्कृति में बोरे बासी का बड़ा ही महत्व है।

किसानों और श्रमिकों के साथ आम छत्तीसगढ़िया लोगों का भी यह बड़ा प्रिय आहार है।

अपने पौष्टिक गुणों और स्वाद के कारण या हमारी लोक संस्कृति में इस तरह रच बस गया है।

यह हमारे गीतों और लोक कथाओं में भी शामिल हो गया है।

गर्मी के दिनों में बोरे बासी शरीर को ठंडा रखता है और पाचन शक्ति को बढ़ाता है।

त्वचा की कोमलता और वजन संतुलित करने में भी यह रामबाण है। बोरे बासी में बहुत सारे पोषक तत्व मौजूद होते हैं।

साइंस कॉलेज में होगा श्रमिक सम्मेलन का आयोजन, देंगे करोड़ो की सौगात

राजधानी रायपुर के साइंस कॉलेज मैदान में श्रमिक सम्मेलन का आयोजन होगा।

इस सम्मेलन में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल मुख्य अतिथि के रुप में शामिल होंगे।

कार्यक्रम की अध्यक्षता श्रम मंत्री शिव कुमार डहरिया करेंगे।

इस मौके पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल लगभग 100000 श्रमिकों को विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत 47.12 करोड़ रुपए की राशि डीबीटी के माध्यम से उनके बैंक खातों में ट्रांसफर करेंगे।

इसके अलावा आरंग और पाटन में श्रमिक सहायता केंद्र का शुभारंभ करेंगे।

 

 

Leave a Comment