CG News: छत्तीसगढ़ का निरई माता मंदिर कल 5 घंटे के लिए खुलेगा, यहां जोत अपने आप प्रज्वलित होती है, साल में केवल एक बार खुलता है यह मंदिर, केवल पुरुष कर सकते हैं पूजा

CG News: दोस्तों छत्तीसगढ़ में ऐसे बहुत सारे मंदिर है जिसकी कहानियां अलग-अलग है ऐसे ही एक हम मंदिर है जिसके बारे में हम आपको बताने वाले हैं। इस मंदिर में दूर-दूर से लोग दर्शन करने के लिए आते हैं। यह मंदिर छत्तीसगढ़ के गरियाबंद जिले से 12 किलोमीटर की दूरी पर पहाड़ी पर स्थित है । निरई माता का मंदिर साल में सिर्फ एक बार चैत्र नवरात्रि में पढ़ने वाले पहले रविवार को 5 घंटे के लिए ही खुलता है। बाकी दिनों में यह मंदिर बंद रहता है और लोगों को यहां आना जाना भी प्रतिबंध होता है। हजारों श्रद्धालु अपनी मन्नत पूरी करने के लिए निरई माता के मंदिर में आते हैं।

दो पहाड़ों के बीच निरई माता धाम में ना ही कोई मंदिर है और ना ही कोई मूर्ति फिर भी हजारों श्रद्धालु यहां दर्शन के लिए आते हैं और मन्नते मांगते हैं। मन्नत पूरी हो जाने के बाद लोग बकरे की बलि देकर अपनी श्रद्धा को प्रकट करते हैं। दोस्तों इस मंदिर की खासियत यह है कि यह सिर्फ एक बार चैत नवरात्र में 5 घंटे के लिए यानी सुबह 4:00 बजे से 9:00 बजे तक माता के दर्शन आप कर सकते हैं। बाकी दिनों में यहां आना मना होता है। माताजी के दर्शन के लिए यहां हर साल हजारों श्रद्धालु पहुंचते हैं।

निराई माता के मंदिर में माता को सुहाग, श्रृंगार, सिंदूर, बंधन, गुलाल नहीं चढ़ाया जाता है केवल अगरबत्ती और नारियल से माता की पूजा करके माता को प्रसन्न किया जाता है। इस मंदिर में केवल पुरुष पूजा कर सकते हैं महिलाओं का इस मंदिर में आना वर्जित है।।

Leave a Comment