Balod News हर गली मोहल्ले में मंडप बजे, विधिवत विवाह की परंपरा निभाई और गुड्डे गुड़ियों की शादी की, बच्चों में दिखा उत्साह, शादी की सभी रस्मों को जाना

बालोद। जिले के अलग-अलग क्षेत्रों में शनिवार को अक्षय तृतीया का त्यौहार बड़ी ही धूमधाम से मनाया गया। ग्रामीण अंचलों में सुबह से ही गुड्डे गुड़िया की शादी की गई ‌ इस दौरान हर गली मोहल्ले में मंडप सजाया गया। विधिवत विवाह की परंपरा निभाई गई और गुड्डे गुड़ियों की रीति रिवाज से शादी की गई। ब्याह के गीत बजते रहे और बच्चों से लेकर बड़ों तक नहीं खूब डांस किया। शादी के बाद गुड़ियों की विदाई की रस्म अभी निभाई गई वही किसानों ने ठाकुर देव की पूजा करने के बाद अपने खेतों में पहुंचकर धान की बुवाई की।

अक्षय तृतीया पर सबसे ज्यादा बच्चे खुश नजर आए। बच्चों को अक्षय तृतीया का त्योहार मनाते हुए गुड्डे गुड़ियों की शादी रचाई गई। घरों में बच्चों की टीम ने बड़ों के साथ मिलकर मंडप सजाया फिर पूरे विधि विधान से कोटि कोठियों की शादी की गई। डीजे के साथ बराती निकले और बरातियों ने भी उनका जमकर स्वागत किया। यह सभी इंतजाम बच्चों के द्वारा किया गया था। अक्षय तृतीया के अवसर पर गांव के हर गली मोहल्ले में विवाह गीत बजते रहे। सबसे पहले बच्चों ने गुड्डे गुड़ियों के बिहार का निमंत्रण दिया। गुड्डा गुड़िया की शादी में बच्चों ने माटी से लेकर हरदी चढ़ाने की पारस मणि भाई। एक आम शादी की तरह ही शादी रस्म पूरी की गई। एक पक्ष गुड्डे के साथ दूसरी पक्ष गुड़िया के साथ रहा।

शादी के मंडप तक बरात पहुंचे और विवाह की सभी रस्मों को पूरी की गई। बच्चों को प्रोत्साहित करने के लिए मोहल्ले वाले और परिवार वालों ने भी मंडप तक पहुंचे और गुड्डी और गुड़ियों को पीले चावल का तिलक लगाकर टिकावन भेंट किया। फिर मंडप में बच्चों का उत्साह बढ़ाने के लिए बड़ों ने भी टिकावन दिया। शादी देखने वाले लोगों के लिए बच्चों ने खाने-पीने का भी प्रबंध किया था।

Leave a Comment