CG Latest News: छत्तीसगढ़िया संस्कृति की दिखी झलक, बैलगाड़ी से निकली इंजीनियर की बारात, शादी देखने के लिए उमड़ी लोगों की भीड़

जांजगीर चांपा। प्री वेडिंग शूट मैम छत्तीसगढ़ की वेशभूषा और ग्रामीण युग में दूल्हा दुल्हन का फोटो सोशल मीडिया में जमकर वायरल होने के बाद सुर्खियों में आए इंजीनियर दूल्हे की बारात बैलगाड़ी से निकली। बारात ऐसे निकली जिसे देखने के लिए गांव के लोग ही नहीं बल्कि नगर के लोग भी उमड़ पड़े।

जी हां बिल्कुल छत्तीसगढ़ के प्रमुख वाहन बैलगाड़ी में पगड़ी पहन कर इंजीनियर दूल्हा सवार हुआ है और बाजार में छत्तीसगढ़ का लोक नृत्य में कर्मा मंडली, मांदर, झाल मंजीरा के साथ निकला। दिन में निकली इस बाराती को देखने के लिए काफी ज्यादा लोगों की भीड़ लगी रही और छत्तीसगढ़ की संस्कृति की झलक दिखाने का प्रयास करते रहे।

इंजीनियर दुल्हन अपनी शादी के हर रस्म को छत्तीसगढ़िया संस्कृति के नाम कर दिया है जांजगीर की पुरानी बस्ती चित्र पारा में रहने वाले राठौर की आज शादी है। पेशे से इंजीनियर देवेंद्र राठौर ने अपनी शादी के लिए जोर शोर से तैयारी की और प्री वेडिंग शूट में छत्तीसगढ़िया अंदाज में फोटो और वीडियो शूट कराया। जिसे सोशल मीडिया में देखने के बाद लोगों की खूब सराहना मिली।

महिलाएं भी छत्तीसगढ़िया पहनावे को दी प्राथमिकता

इंजीनियर देवेंद्र राठौर ने इसी छत्तीसगढ़िया अंदाज को आगे बढ़ाते हुए आज बैलगाड़ी में बारात निकली। जिसमें छत्तीसगढ़ की प्रमुख वाद्य यंत्र मांदर, झांझ, मंजीरा के साथ कलाकार नाचते हुए निकले, इसके साथ ही बरात में शामिल होने वाले महिलाओं ने भी छत्तीसगढ़िया पहनावा को प्राथमिकता दिया और हर लुगरा के साथ कमर में करधन हाथ में ककनी, पैरी पहनकर निकली और नृत्य भी की।

युवा पीढ़ी को संस्कृति से परिचय कराने की कोशिश

शादी के इस छत्तीसगढ़िया अंदाज को लेकर दूल्हा रविंद्र राठौर का कहना है कि आज समाज और छत्तीसगढ़ के लोग अपनी मूल को भूलते जा रहे हैं और पश्चिमी संस्कृति में रमते जा रहे हैं इसके कारण डीजे के काम छोड़ साउंड और तामझाम में हमारी संस्कृति विलुप्त होती जा रही है। हमने परिवार के साथ चर्चा की और छत्तीसगढ़िया अंदाज में बारात निकालकर आज की युवा पीढ़ी को अपनी संस्कृति से परिचय कराने की कोशिश की है।